FeedCluster.com - Free Community Aggregators, Blog Aggregator Hosting Create Aggregator | Submit Blog | Log In
पढ़िए 'परिकल्पना ब्लॉग विश्लेषण' के अंतर्गत चयनित हिंदी के श्रेष्ठ चिट्ठाकारों की ताज़ी प्रविष्टियाँ
डॉ कुमार विश्वास: हिन्दी कविता के मंच का कोहिनूर
पिछले महिने जुलाई २०१४ में जिस दिन डॉ कुमार विश्वास अमेरीका पहुँचे, उसी सुबह उनसे फोन पर बात हुई. पता चला कि अमेरीका और कनाडा के १४ अलग अलग शहरों में हो रहे कार्यक्रमों में टोरंटो में कार्यक्रम भी शामिल है. पिछले साल भी २०१३ में डॉक्टर ... [read more]
2 CommentsView blog reactions
महाराज से सरकार और सम्मेलन से संसद तक भारत की धर्म यात्रा-हिन्दी व्यंग्य चिंत्तन लेख(maharaj se sarkar aur sammealan se sansad tak Bharat ki dharama yatra-hindi satire thought article)
            भारत में अध्यात्मिक दर्शन के अनुसार भक्ति के साकार और निराकार दो रूप माने गये हैं।  इसका कारण यह है कि निरंकार की भक्ति केवल ज्ञानी कर सकते हैं जबकि सामान्य मनुष्य साकार भक्ति से ही सहजता का अनुभव करता है।  हालांकि भ्रमवश कह ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
कार्टून :- बम-भोले की नगरी में क्‍योटो से बॉम्‍ब
3 CommentsView blog reactions
क्‍या जन-धन योजना को एक क्रांति कहें
  http://epaper.jagran.com/epaper/01-sep-2014-262-National-Page-1.html#  आज दैनिक जागरण के राष्‍ट्रीय संस्‍करण में प्रकाशित मेरा आलेख [read more]
0 CommentsView blog reactions
किताबों की दुनिया - 99
नर्म लहज़े में दर्द का इज़हार गो दिसंबर में जून की बातें  ****  जुर्म था पर बड़े मज़े का था  जिसको चाहा वो दूसरे का था  ****  ज़ेहन की झील में फिर याद ने कंकर फेंका  और फिर छीन लिया चैन मिरे पानी का ****  जब भी चाहें उदास हो जाएँ  ... [read more]
6 CommentsView blog reactions
लगी है हवा प्यार के गीत गाने
छनी बादलों की झिरी में से किरणें लगीं घोलने नाम तेरा हवा में पिरो कर जिसे पत्तियों के सुरों में लगी है हवा प्यार के गीत गाने   मचलते हुए नाव के पाल चढ़ कर सुनाने लगी सिन्धु को वह कहानी परस मिल गया नाम के अक्षरों का महक थी उठी दो ... [read more]
1 CommentView blog reactions
सूर्यकांत मिश्रा का शिक्षक दिवस विशेष आलेख - “गुरू” से “सर” तक की यात्रा के बीच
“गुरू” से “सर” तक की यात्रा के बीच -: शिक्षक दिवस का औचित्य :-     वर्तमान समय शिक्षा और शिक्षकों के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं माना जाना  चाहिए । शिक्षा और शिक्षकों के बदले स्वरूप ने वास्तव में पुरातन पद्धतियों पर अपनी प्रतिष्ठा ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
मोदी के बौद्ध धर्म का प्रेम और हिन्दुत्व राग के पीछे का सच
नरेन्द्र मोदी यूं ही क्योटो के प्रसिद्द तोजी बौद्ध मंदिर में नहीं गये । और उसके बाद किंकाकुजी बौद्दध मंदिर यूं ही नहीं पहुंचे। और इसी बरस नवबंर में होने वाले सार्क सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी नेपाल जायेंगे तो यूं ही काठमांडू के बौद्ध ... [read more]
3 CommentsView blog reactions
लता सुमन्त तथा मनोज 'आजिज़' की लघुकथाएँ
                           आत्मविश्वास                                                       डॅा.लता सुमन्त     बेटे के कहने पर बाबा ने अपना 35 साल पुराना नौकरी का गाँव छोड़ा था. अब तक आपने बहुत श्रम किये.अब आप केवल आराम करेंगे.केवल बेट ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
नन्दलाल भारती की कहानी - इकलौती बहू
इकलौती बहू/कहानी चिन्‍ताप्रसाद कुल जमा चौथी जमात तक पढ़े थे पर खानदानी चालाक थे। चिन्‍ताप्रसाद के पुरखों ने कमजोर वर्ग के लोगों को भूमिहीन बनाने में बड़ी भूमिका निभाई थी। अंग्रेजों के जमाने में भूमिका लेखा -जोखा रखना इनका खानदानी पेशा थ ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
पुस्तक समीक्षा - अजनबी मौसम से गुजरकर
पुस्‍तक समीक्षा पुस्‍तक ः अजनबी मौसम से गुजरकर लेखक ः विनोद कुमार प्रकाशकः प्रकाशन संस्‍थान, 4268-बी/3, अंसारी रोड, दरियागंज, नई दिल्‍ली-110002 मूल्‍य ः 150/- अजनबी मौसम से गुजरकर पंद्रह कहानियों का संग्रह है जो लंबे अंतराल पर लिखी ग ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
दिलीप भाटिया का आलेख - अहा! बचपन
अहा! बचपन प्रार्थना, तुम्‍हारी मम्‍मी से जब मैं स्‍मार्टफोन के फीचर्स सीख रहा था, तो तुम्‍हारी प्रतिक्रिया थी, ‘‘नानू, आपके माम डेड ने नहीं सिखाया था क्‍या ? ‘‘मेरे उत्तर‘‘ उस समय ये सब नहीं थे‘‘। पर तुम्‍हारी जिज्ञासा थी कि मेरा बचपन ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
सुभाष चन्द्र लखेड़ा की तीन लघुकथाएँ - " जय जवान " , " रिश्तेदार ", और " बेताल का सवाल "
जय जवान        इस घटना से जुड़े सभी नाम छुपाते हुए मैं एक सच्चा किस्सा बयां कर रहा हूँ। आर्मी में भर्ती के लिए प्रत्याशियों को कुछ मनोवैज्ञानिक सवालों  से भी गुजरना पड़ता है। कोई 20 - 21 वर्ष  पहले एक मीटिंग के दौरान एक वरिष्ठ व्यक्ति ने ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
चन्द्रकुमार जैन का आलेख - ऐसे आचरण पर हमारी खामोशी आखिर क्यों ?
ऐसे आचरण पर हमारी खामोशी आखिर क्यों ? डॉ.चन्द्रकुमार जैन देश की राजधानी में एक युवती के साथ चलती बस में बलात्कार की घटना की चर्चा जमकर हुई थी। निर्भया का मामला अब संवेदना और प्रतिक्रिया से ज्यादा प्रचार के रूप में ढल-सा गया मालूम पड़ता ह ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
गोवर्धन यादव का आलेख - स्वामीनारायण अक्षरधाम की संस्कृति-तीर्थ यात्रा
स्वामीनारायण अक्षरधाम (गोवर्धन यादव) स्वामीनारायण अक्षरधाम एक नूतन-अद्वितीय संस्कृति-तीर्थ है. भारतीय कला, प्रज्ञा और चिंतन का बेजोड संगम यहाँ देखा जा सकता है. भारतीय संस्कृति के पुरोधा, स्वामीनारायण संप्रदाय के संस्थापक श्री घनश्याम पा ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
अनिल कुमार पारा का आलेख - आखिर कब थमेगा भगदड़ का बवन्‍डर ?
आखिर कब थमेगा भगदड़ का बवन्‍डर ? 25 अगस्‍त 2014 समय सुबह 6 बजे वही समय जब श्रृद्धालु सतना जिले में स्‍थित चित्रकूट के कामतानाथ स्‍वामी के मंदिर सहित कामदगिरी पर्वत परिक्रमा में बढ़चढ़कर भाग ले रहे थे, किसी ने यह नहीं सोचा था कि उनकी यह ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
पुस्‍तक समीक्षा - चौखड़ी जनउला
पुस्‍तक समीक्षा विलुप्‍त होते शब्‍दों को सहेजने का उद्यम-‘‘चौखड़ी जनउला‘‘ वीरेन्‍द्र ‘सरल‘ भारतेन्‍दु हरिशचन्‍द्र ने लिखा है कि ‘निज भाषा उन्‍नति अहै, सकल उन्‍नति के मूल, बिन निज भाषा ज्ञान के, मिटत न हिय के शूल‘ अपनी भाषा के प्रति प् ... [read more]
0 CommentsView blog reactions
बच्चों की परवरिश के सही मायने समझें हम
परिवार पोषित करे समझ और संवेदनशीलता मॉल के एक मंहगे से आउटलेट के सामने पांच साल के एक बच्चे ने पानी की खाली बोतल ठोकर मार कर उछाल दी । बोतल उस क़ीमती सामान वाली दुकान के दरवाज़े पर खड़े गार्ड के मुंह पर जाकर लगी । देखकर लगा कि गार्ड के चे ... [read more]
20 CommentsView blog reactions
कार्टून :- उलटबॉंसी का योग
7 CommentsView blog reactions
सौन्दर्य लहरी- 14
सौन्दर्य-लहरी संस्कृत के स्तोत्र-साहित्य का गौरव-ग्रंथ व अनुपम काव्योपलब्धि है। आचार्य शंकर की चमत्कृत करने वाली मेधा का दूसरा आयाम है यह काव्य। निर्गुण, निराकार अद्वैत ब्रह्म की आराधना करने वाले आचार्य ने शिव और शक्ति की सगुण रागात्मक ... [read more]
View blog reactions
ठेसियत की ठोसियत
मिच्छामि दुक्खड़म जैसे ऋषि-मुनियों का ज़माना पुण्य करने का था वैसे आजकल का ज़माना आहत होने का है। ठेस आजकल ऐसे लगती है जैसे हमारे जमाने में दिसंबर में ठंड और जून में गर्मी लगती थी। अखबार उठाओ तो कोई न कोई आहत पड़ा है। रेडियो पर खबर सुनो तो ... [read more]
10 CommentsView blog reactions
कृपया छुट्टे पैसे देवें
Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com) [read more]
0 CommentsView blog reactions
धन में 'जन' का आइडिया
Cartoon by Kirtish Bhatt (www.bamulahija.com) [read more]
0 CommentsView blog reactions
प्रोफ़ेसर बिपन चन्द्रा नहीं रहे
जानेमाने इतिहासकार प्रोफ़ेसर बिपन चन्द्रा का छियासी वर्ष की आयु में देहांत हो गया. भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी अध्येताओं में गिने जाने वाले प्रोफ़ेसर बिपन चन्द्रा का जन्म १९२८ में हिमांचल की कांगड़ा घाटी में हुआ था. उन्होंने लाह ... [read more]
1 CommentView blog reactions
चैतन्य
मेरा सत्य (असत्य सा निर्जीव) मेरे अस्तित्व की चेतना बन वृक्ष की घनी पत्तियों में सूर्योदय में गोधुली में पंछियों के निनाद में गंगा की अभिलाषा में शिव जटा में सरस्वती की वीणा में पार्वती के तप में अबोध बच्चे की मुस्कान में शां ... [read more]
15 CommentsView blog reactions
बदनाम हैं तो क्या, नाम तो है
//व्‍यंग्‍य-प्रमोद ताम्बट// [read more]
2 CommentsView blog reactions
कार्टून :-धर्मांतरण, फटा जूता और टॉयलेट
0 CommentsView blog reactions
कि भाषा कोरे वादों से वायदों से भ्रष्ट हो चुकी है सबकी
फिल्म के बाद चीख़ [read more]
0 CommentsView blog reactions
उज्जैन उज्जयिनी महाकाल महाकालेश्वर महामृत्युँजय जाप जल एवं दुग्ध अभिषेक भस्मारती दर्शन (Ujjain Mahakal Mahakaleshwar Mahamrityunjaya Jaap Bhasma Aarti)
    कालों का काल महाकाल के दर्शन करने उज्जैन दूर दूर से भक्त आते हैं, उज्जयिनी और अवन्तिका नाम से भी यह नगरी प्राचीनकाल में जानी जाती थी। स्कन्दपुराण के अवन्तिखंड में अवन्ति प्रदेश का महात्म्य वर्णित है। उज्जैन के मंगलनाथ मंदिर को मंगल ... [read more]
View blog reactions
क्या चिटठा जगत और ब्लोगवाणी की कमी खल रही है हिन्दी ब्लॉगिंग को ?
आज से फिर से ब्लॉग पर समय देना प्रारम्भ किया है। सौभाग्य से  गणेश चतुर्थी का दिन है आज।  आज कई पुराने ब्लागों पर गया।  फेसबुक और ट्विटर के दौर में पोस्ट पढ़ने के बाद like का बटन तलाशा। [read more]
4 CommentsView blog reactions
 
Featured Feeds
" अर्श "
"बालसभा"
******दिशाएं******
An Indian in Pittsburgh - पिट्सबर्ग में एक भारतीय
Beyond The Second Sex (स्त्रीविमर्श)
BLAH BLAH BLOG
Cartoon, Hindi Cartoon, Indian Cartoon, Cartoon on Indian Politcs: BAMULAHIJA
chakorvaani चकोरवाणी
cinema- सिलेमा
current CARTOONS
Darvaar दरबार
DHAI AKHAR ढाई आखर
funthru
ghaur bati
Hasya Kavi Albela Khatri
Hindi Blog Tips
HIndi Jokes
honestyprojectrealdemocracy
janshabd
Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून
KAVYASUDHA ( काव्यसुधा )
Lucknow Bloggers' Association लख़नऊ ब्‍लॉगर्स असोसिएशन
mamta t .v.
Manas Khatri: Hasya Hindi-Poet and Writer!
Manas Khatri: Hasya Hindi-Poet and Writer!
mehek
meraashiyana
Sakshatkar TV - Sakshatkar.com
अज़दक
अदालत
अनंत अपार असीम आकाश
अनसुनी आवाज
अमृता प्रीतम की याद में.....
आइये करें गपशप
आदिवासी जगत
आनन्द बक्षी
आम जन
आशियाना
इंडियन बाइस्कोप
उन्मुक्त
उसका सच
उड़न तश्तरी ....
एक आलसी का चिठ्ठा
एक लोहार की
एक हिंदुस्तानी की डायरी
कबाड़खाना
कल्पनाओं का वृक्ष
कार्टून धमाका...!
कुछ मेरी कलम से kuch meri kalam se **
कोसी खबर..
क्वचिदन्यतोअपि..........!
खिलौने वाला घर
खेत खलियान KHET KHALIYAN
गीत कलश
घुघूतीबासूती
चक्रधर की चकल्लस
चराग़े-दिल
चर्चा पान की दुकान पर
चिट्ठे सम्बंधित कार्टून
चित्रपट
चैतन्य का कोना
जिंदगी : जियो हर पल
जिंदगी के रंग
टूटी हुई बिखरी हुई
ठहाका
ठुमरी
डाकिया डाक लाया
डॉ. चन्द्रकुमार जैन
तीखी नज़र
तीसरा खंबा
दाल रोटी चावल
दालान
दीपक भारतदीप का चिंतन
दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान- पत्रिका
धनात्मक चिन्तन
धान के देश में!
ना जादू ना टोना
निरन्तर
नीरज
नुक्कड़
नेता जी क्या कहते हैं ?
परवाज़.....शब्दों के पंख
परिकल्पना
पांचवा खम्बा
पाल ले इक रोग नादां...
पास पड़ोस
पीढियाँ
पुण्य प्रसून बाजपेयी
प्रगतिशील ब्लॉग लेखक संघ
प्रत्यक्षा
प्रत्येक वाणी में महाकाव्य...
बाजे वाली गली
ब्रज की दुनिया
ब्लाग चर्चा "मुन्ना भाई" की
ब्लॉग मदद
भड़ास blog
भावनायें...
भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने वाले सेनानी (CORRUPTION FIGHTERS): 73 वर्ष के बृद्ध अन्ना हजारे हमसब के बच्चों के भविष्य की रक्षा के लिए 5 अप्रेल 2011 को बैठेंगे भूख हरताल पर.......और हमसब........?
मंथन
मनोरमा
महावीर
मानवीय सरोकार
मानसिक हलचल
मीत
मेरा भारत महान
मेरी कलम से
मेरी भावनायें...
मैत्री
मोहल्‍ला
मौन के खाली घर में... ओम आर्य
युग-विमर्श (YUG -VIMARSH) یگ ومرش
रचनाकार
राजतन्त्र
रेखा की दुनिया
रेडियो वाणी
रेडियोनामा
लावण्यम्` ~अन्तर्मन्`
लो क सं घ र्ष !
वागर्थ
वेब-प्रोद्यौगिकी (हिन्दी)
व्यंग्यलोक
शब्दों का दंगल
शस्वरं
श्री सांवर दइया री ओळूं मांय "नेगचार"
संवेदनाओं के पंख
सच्चा शरणम्
सद्भावना दर्पण
सफर - राजीव रंजन प्रसाद
सबद...
समाजवादी जनपरिषद
साईब्लाग [sciblog]
सुदर्शन
सुबीर संवाद सेवा
सुर-पेटी
स्व प्न रं जि ता
स्वप्नलोक
स्वर-चित्रदीर्घा
हँसते रहो Hanste Raho
हवा पानी
हा र मो नि य म
हाशिया
हिंदी ब्लॉगरों के जनमदिन
हिन्दुस्तानी एकेडेमी
फ़लसफ़े
…पारूल…चाँद पुखराज का……